अलीगढ़, जेएनएन। तालानगरी के टप्पल क्षेत्र में ढाई वर्ष की बच्ची की जघन्य हत्या का घटनाक्रम सुनकर हर किसी का दिल दहल जाता है। एक बालिका की क्रूरता से हत्या हुई।

शव को कपड़े की पोटली में लपेटकर फेंका गया, जो गल गया। उसका हाथ अलग मिला। मामले में सोशल मीडिया पर गुस्सा दिख रहा है। क्रिकेट और बॉलीवुड के जाने-माने सितारे भी लगातार ट्वीट से अपना दर्द और गुस्सा जता रहे हैैं। कुछ सितारों ने दुष्कर्म को लेकर भी प्रतिक्रिया दी है। हालांकि, पुलिस के बाद पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट भी दुष्कर्म की बात से इन्कार कर चुकी है। टप्पल हत्याकांड को लेकर ट्विटर पर चार हैशटैग ट्रेंड हो रहे हैैं। बड़ी संख्या में लोग ट्वीट कर रहे हैैं।

अलीगढ़ में ढाई साल की बच्ची की नृशंस हत्या की जांच के लिए एसआईटी गठित

टप्पल में हुई ढाई साल की बच्ची की जघन्य हत्या को लेकर सोशल मीडिया पर देशभर से गुस्से का इजहार किए जाने के बाद डीजीपी मुख्यालय हरकत में आ गया है। डीजी कानून-व्यवस्था आनंद कुमार के निर्देश पर शुक्रवार को हत्याकांड की जांच के लिए अलीगढ़ के एएसपी देहात मणिलाल पाटीदार के नेतृत्व में छह सदस्यीय स्पेशल इन्वेस्टिगेशन टीम (एसआईटी) गठित की गई है। एडीजी (लॉ एंड ऑर्डर) आनंद कुमार ने बताया कि एसपी ग्रामीण के नेतृत्व में एसआईटी का गठन किया गया है। एक एक्सपर्ट, फोरेंसिक टीम और स्पेशल ऑपरेशन ग्रुप (एसओजी) की टीम भी जांच टीम का हिस्सा होगी जो फास्ट ट्रैक कोर्ट के बेस पर जांच करेगी। एसपी देहात मणिलाल पाटीदार के नेतृत्व में सीओ खैर पंकज श्रीवास्तव के पर्यवेक्षन में 4 विवेचक करेंगे जांच। तीन सप्ताह में एसआईटी अपनी रिपोर्ट देगी ।

विवेचकों में  इंस्पेक्टर टप्पल  संजय कुमार जायसवाल, महिला थाना इंस्पेक्टर सुनीता मिश्रा समेत चार इंस्पेक्टर रहेंगे शामिल।

पुलिस ने बताया है कि दो आरोपियों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है। पुलिस आरोपियों पर रासुका लगाने की तैयारी कर रही है। आरोपियों पर पॉक्सो एक्ट भी लगाया गया है। बच्ची का शव मिलने के बाद आशंका जताई गई थी कि रेप के बाद उसकी हत्या हुई है। पुलिस ने बताया है कि पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट में रेप की पुष्टि नहीं हुई है। पुलिस ने बताया कि आरोपियों का मृत बच्ची के पिता से रुपये के लेन-देन को लेकर झगड़ा हुआ था। जिसके बाद बच्ची को अगवा कर लिया और गला घोटकर उसकी हत्या कर दी। पुलिस ने बताया है कि मामला फास्ट ट्रैक कोर्ट में चलाया जाएगा। वहीं, इस मामले में कार्रवाई करते हुए एक इंस्पेक्टर, एक सिपाही और तीन दारोगा को निलंबित कर दिया गया है। 

अमानवीय घटना पर हो सख्त कार्रवाई : प्रियंका गांधी

ढाई साल की मासूम बच्ची की जघन्य हत्या के मामले ने तूल पकड़ लिया है। कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने इस घटना को अमानवीय करार दिया है और दोषियों को कड़ी से कड़ी सजा देने की मांग की है। इसके अलावा बॉलीवुड के कलाकारों ने भी इस घटना के बाद सोशल मीडिया पर अपने गुस्से का इजहार किया है। 

बच्ची की हत्या से दहल गया दिल

क्रिकेटर वीरेंद्र सहवाग ने ट्वीट किया है कि टप्पल में सबसे भयानक तरीके से ढाई साल की बच्ची की दुष्कर्म के बाद हत्या की खबर से बेहद परेशान हूं। वह न्याय की हकदार है।

अपराधियों के खिलाफ हो कार्रवाई

अक्सर प्रमुख मामलों में अपनी प्रतिक्रिया देने वाली ट्विंकल खन्ना ने लिखा है कि बच्ची की भयानक हत्या के बारे में सुनकर दिल दहल जाता है। अपराधियों के खिलाफ त्वरित कार्रवाई के लिए केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी से अनुरोध किया है। स्मृति ईरानी से अनुरोध है कि जघन्य अपराध के अपराधियों के खिलाफ त्वरित कार्रवाई सुनिश्चित की जाए।

कानून तेजी से काम करे

रवीना टंडन ने लिखा है यह भयानक, बर्बर घटना है। कानून को तेजी से काम करना चाहिए।

बच्ची के बारे में सुनकर गुस्सा आ गया

अभिषेक बच्चन ने ट्वीट किया है कि बच्ची के बारे में सुनकर गुस्सा आ गया। कोई ऐसा काम करने की सोच भी कैसे सकता है। अभिनेता अभिषेक बच्चन ने लिखा है कि ये एक घृणात्मक और गुस्सा पैदा करने वाली घटना है और वो नि:शब्द हैं। कोई ऐसी क्रूरता करने की बात सोच भी कैसे सकता है।

सनी लियोनी ने मांगी माफी अभिनेत्री सनी लियोनी ने भी इस मामले पर अपनी प्रतिक्रिया दर्ज की और बच्ची से माफी मांगते हुए लिखा कि वो ऐसी दुनिया में हैं जहां लोग मानवता को भुला चुके हैं। सनी इस घटना से बेहद आहत हैं और समाज की इस स्थिति का दोषी खुद को मानते हुए उन्होंने Iamsorry भी लिखा है।

आयुष्मान खुराना ने ट्वीट किया है कि यह अमानवीय और बर्बर है। उसके परिवार के लिए मेरी प्रार्थना है। न्याय होना चाहिए। सिद्धार्थ मल्होत्रा ने लिखा कि इस खबर से बेहद परेशान हूं। यह एक ऐसी दुनिया में रहने के लिए डरावना है जहां मासूम बच्चे भी सुरक्षित नहीं हैं। मैं अपने अधिकारियों से यह सुनिश्चित करने के लिए कार्रवाई करने का आग्रह करता हूं कि इस तरह के जघन्य अपराध को फिर से दोहराया न जाए। फिल्म अभिनेता अर्जुन कपूर बच्ची की हत्या मानवता पर एक शर्म की बात है। न्याय मिलना चाहिए। 

रवीना टंडन ने ट्वीट किया है कि यह भयानक, बर्बर घटना है। कानून को तेजी से काम करना चाहिए।

कोई भी घटना अच्छी नहीं होती : साध्वी निरंजन ज्योति

ढाई साल की बच्ची की निर्मम हत्या के मामले पर केंद्रीय मंत्री साध्वी निरंजन ज्योति ने रोष व्यक्त किया है।चित्रकूट दौरे पर आईं साध्वी निरंजन ज्योति ने कहा कि इस तरह की घटनाएं रुह को कंपा देती है। केंद्रीय मंत्री ने कहा कि सरकार कानून के दायरे में काम करती है। वहीं, परिवारों को अच्छे संस्कारों की जरूरत है। सांसद निरंजन ज्योति ने कहा कि कोई भी घटना अच्छी नहीं होती है। उन्होंने कहा कि पहले जो घटनाएं होती थी, तो लोगों को कई-कई दिनों तक आंदोलन करना पड़ता था, लेकिन प्रदेश की योगी सरकार ने तुरंत एक्शन लेते हुए मामले पर कार्रवाई की।

यह था मामला

टप्पल में 30 मई को एक ढाई साल की बच्ची गायब हुई थी। दो जून को उसका क्षत-विक्षत शव घर से 100 मीटर दूर मिला। बच्ची के पिता ने पहले ही दिन हत्या का शक मुहल्ले के जाहिद पर जताया था। बताया था कि जाहिद ने उधार के पांच हजार रुपये तो नहीं दिए, उल्टे परिणाम भुगतने की चेतावनी दी थी। पुलिस ने जाहिद व उसके पड़ोसी असलम को हिरासत में लेकर पूछताछ की थी। चार जून को हत्या का पर्दाफाश कर दोनों को जेल भेज दिया। पुलिस के अनुसार दोनों ने हत्या करना कुबूल किया। वजह में बच्ची के पिता से बेइज्जती का बदला लेना बताया। बच्ची की मां का लगातार रो-रोकर बुरा हाल है। उनका कहना है कि वो आरोपियों को फांसी की सजा चाहती हैं।

इंस्पेक्टर समेत पांच पुलिसकर्मी निलंबित

बच्ची हत्याकांड में लापरवाही बरतने में एसएसपी ने टप्पल थाने के तत्कालीन इंस्पेक्टर समेत पांच पुलिसकर्मियों को निलंबित किया है। इनमें तीन दारोगा व एक सिपाही भी शामिल है। सभी के खिलाफ जांच के भी आदेश दिए हैं। निलंबित किए गए पुलिसकर्मियों में इंस्पेक्टर कुशलपाल सिंह चाहल, दारोगा सत्यवीर सिंह, अरविंद कुमार, शमीम अहमद व सिपाही राहुल यादव शामिल हैं। बच्ची का शव मिलने के बाद कुशलपाल सिंह चाहल को लाइन हाजिर किया गया था। 

न आंखें गायब थीं और न एसिड अटैक : एसएसपी 

टप्पल में ढाई साल की बच्ची की हत्या को लेकर एसएसपी आकाश कुलहरि ने सोशल मीडिया पर अफवाह न फैलाने की अपील की है। उन्होंने बताया कि बच्ची पर न एसिड अटैक हुआ है और न उसकी आंखें गायब थीं। इस तरह की बातें सोशल मीडिया पर की जा रही हैं, जो पूरी तरह गलत हैं। पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट में ऐसा कुछ भी नहीं पाया गया है। रेप की भी पुष्टि नहीं हुई है। हालांकि, जांच के लिए स्लाइड आगरा भेजी गई है, जिसकी रिपोर्ट से स्थिति साफ हो पाएगी।  शव तीन दिन पुराना था। कफी हिस्सा गल चुका था। कीड़े भी पड़ गए थे। आंख के नीचे चोट के निशान थे। आंखें ठीक थीं। इस मामले में दो को जेल भेजा जा चुका है।

पीडि़त परिवार ने एक आरोपी के भाई व पत्नी पर भी साजिश का शक जताया है, जिनकी तलाश की जा रही है। आरोपितों को जल्द सजा दिलाने के लिए फास्ट ट्रैक कोर्ट में सारे सबूत व पैरवी की जाएगी। एसएसपी आकाश कुलहरी ने  जांच के लिए एसआईटी गठित करने के साथ ही आरोपितों पर एनएसए की कार्रवाई की घोषणा की। 

एसएसपी आकाश कुलहरि ने बताया कि आरोपी जाहिद और असलम का बच्ची के पिता से पैसों के लेन-देन को लेकर विवाद था। ये दोनों लोग मजदूर हैं और विवाद के बाद जाहिद ने बच्ची के पिता को धमकी दी थी। उन्होंने बताया कि पुलिस ने जाहिद को हिरासत में लेकर पूछताछ की तो उसने अपना जुर्म कबूल कर लिया। उसने बताया कि उसने अपने साथी असलम के साथ मिलकर इस वारदात को अंजाम दिया था। एसएसपी ने बताया कि इन दोनों पर राष्ट्रीय सुरक्षा कानून (रासुका) के तहत कार्रवाई की जाएगी।

बच्ची की मां ने कहा- हत्यारों को मिलनी चाहिए फांसी की सजा

ढाई साल की मासूम बच्ची की निर्मम हत्या के बाद देशभर में गुस्सा है। बच्ची की मां के आंसू थम नहीं रहे हैं। रोते हुए मां ने अपनी मासूम बच्ची के लिए इंसाफ की गुहार लगाई है। बच्ची की निर्मम हत्या के मामले में ट्विंकल की मां ने मोदी और योगी सरकार से मांग की है कि दोषियों को कड़ी सजा दी जाए।

यदि दोषियों को केवल 7 साल की सजा दी जाएगी, तो वे जेल से छूटकर और अपराध करने को प्रोत्साहित हो सकते हैं। उन्होंने कहा​ कि अगर ऐसा नहीं हुआ तो वह सात साल बाद जेल से बाहर आ जाएगा और उसका हौसला और भी बढ जाएगा। बच्ची के पिता ने भी हत्यारों को फांसी की सजा दिलाने की सरकार से मांग की है।

उधर, यूपी राज्य महिला आयोग अध्यक्ष विमला बाथम ने कहा है कि इस जघन्य मामले को फास्ट ट्रैक कोर्ट में लिया जाना चाहिए। इस मामले को लेकर हम जल्द ही डीजीपी से मिलेंगे और मुख्यमंत्री से भी मुलाकात के लिए समय मांगा है।

पुलिस के दावे जो गले नहीं उतरते

पुलिस का दावा है कि पांच हजार रुपये के लेन-देन के विवाद में बच्ची की हत्या की गई, लेकिन यह बात किसी के गले नहीं उतरती कि इतनी छोटी रकम पर एक बालिका की इतने नृशंस तरीके से हत्या की गई होगी। पुलिस के पर्दाफाश से बच्ची के परिजन भी संतुष्ट नहीं हैैं। पिता का कहना है कि अन्य लोग भी हत्या में शामिल हैैं, जिनके खिलाफ भी कार्रवाई होनी चाहिए।

दरिंदे ने बेटी संग भी किया था दुष्कर्म, दिल्ली से बच्चे का अपहरण

मुख्य आरोपित असलम ने 2014 में अपनी बेटी के साथ भी दुष्कर्म किया था, जिस पर उसकी पत्नी ने ही थाना टप्पल में मुकदमा दर्ज कराया था। इस मामले में आरोपित जेल से जमानत पर छूटा तो कस्बे में ही एक महिला से छेड़छाड़ का मुकदमा दर्ज हुआ। फिर वह दिल्ली जा पहुंचा, जहां गोकुलपुरी थाना क्षेत्र से एक बच्चे का अपहरण कर लिया। दिल्ली पुलिस ने इस मामले में आरोपित को पकड़कर बच्चे को सकुशल बरामद कर लिया था। टप्पल थाने में ही उसके खिलाफ यूपी गुंडा एक्ट में तीन मुकदमे दर्ज हैं।

दुष्कर्म की पुष्टि को अब फॉरेंसिक जांच होगी 

एसएसपी आकाश कुलहरि ने बताया कि पोस्टमार्टम रिपोर्ट में दुष्कर्म की पुष्टि नहीं हुई है। फिर भी स्लाइड तैयार कराकर जांच के लिए आगरा की फॉरेंसिक लैब भेजा गया है। इसकी रिपोर्ट जल्द देने को लैब से कहा जा रहा है। विशेषज्ञों के अनुसार पुलिस ने आरोपितों की पहचान के लिए डीएनए जांच के लिए पहल नहीं की। इससे आरोपितों को आगे बचने का मौका मिल सकता है।

लेन-देन में हुई हत्या 

एसएसपी ने बताया कि आरोपित जाहिद ने बच्ची के पिता से 50 हजार रुपये उधार लिए थे। 45 हजार रुपये लौट दिए थे। पांच हजार रुपयों को लेकर विवाद हुआ था। इसी विवाद में जाहिद ने साथी असलम के सहयोग से मासूम को 30 मई को उठाया। बाद में कपड़े से गला घोंटकर मार डाला था। शव को भूसे के ढेर में छिपा दिया था। बदबू आने पर शव को कूड़े के ढेर पर फेंका था। पुलिस को क्षत-विक्षत शव कपड़े में बंधा मिला था। इसका दायां हाथ भी गायब था।

ये कहती है पोस्टमार्टम रिपोर्ट 

शव क्षत-विक्षत हालत में था, जिसे कुत्ते खींच रहे थे। डॉक्टर उसे जहां से भी पकडऩे की कोशिश कर रहे थे। वह अलग हो रहा था।  हत्या तीन-चार दिन पहले होने की वजह से शव में कीड़े पड़ चुके थे। बालिका की पीठ पर कटे के निशान थे। एक पैर तोड़ दिया गया था। बालिका का दायां हाथ गायब था।  बालिका के बाल जलाए गए थे। ऐसा लग रहा था कि शव पर एसिड डाला गया है, लेकिन इसकी पुष्टि नहीं हुई। आंख के नीचे सॉफ्ट टिश्यू क्षतिग्रस्त पाए गए।