भोपाल, एएनआइ। Karnataka Crisis: मध्य प्रदेश के सीएम कमलनाथ और कांग्रेस के वरिष्‍ठ नेता गुलाम नबी आजाद शनिवार शाम बेंगलुरु के लिए रवाना होंगे और रविवार तक वहीं रहेंगे।  

बागियों को मनाने की कोशिशें तेज

कांग्रेस ने बागियों को मनाने की कोशिशें भी तेज कर दी है। शनिवार को कांग्रेस के बागी विधायक एमटीबी नागराज सिद्दारमैया से मिलने उनके घर पहुंचे। इस दौरान कांग्रेस विधायक जमीर खान भी मौजूद थे। नागराज ने कांग्रेस के संकटमोचक डीके शिवकुमार से मुलाकात की।

वहीं बेंगलुरु के रामाडा होटल (Ramada hotel) में बीएस येदियुरप्‍पा ने भाजपा विधायकों के साथ एक बैठक की। दूसरी ओर निर्दलीय विधायकों आर शंकर और एच नागेश ने विधानसभा अध्‍यक्ष को पत्र लिखकर विधानसभा में विपक्ष में बैठने का बंदोबस्‍त करने की मांग की। बता दें कि ये दोनों विधायक मौजूदा गठबंधन सरकार से समर्थन वापसी की घोषणा कर चुके हैं।

विधानसभा अध्‍यक्ष के समक्ष सुनवाई के लिए नहीं पहुंचे बागी विधायक 
कांग्रेस-जेडीएस के तीन बागी विधायक नारायण गौड़ा (जदएस), आनंद सिंह (कांग्रेस) और प्रताप गौड़ा पाटिल (कांग्रेस) निजी सुनवाई के लिए शुक्रवार को विधानसभा अध्‍यक्ष के समक्ष पेश नहीं हुए। विधानसभा अध्‍यक्ष ने उन्हें शाम तीन से चार बजे के बीच अपने कार्यालय में बुलाया था।

विधानसभा में भाजपा की रणनीति के बारे में प्रदेश भाजपा अध्यक्ष बीएस येद्दयुरप्पा ने कहा कि इसका फैसला विश्वास प्रस्ताव पेश किए जाने के दौरान सीएम के भाषण के आधार पर होगा। 

कुमारस्वामी ने बहुमत साबित करने का किया अनुरोध 
विधानसभा का 10 दिवसीय मानसून सत्र शुरू होने के बाद मुख्यमंत्री कुमारस्वामी ने शुक्रवार को भाजपा को चौंकाते हुए विधानसभा अध्‍यक्ष केआर रमेश कुमार से कहा कि मैं विश्वास मत का सामना करने के लिए तैयार हूं। मैं आपसे अनुरोध करता हूं कि सदन में प्रस्ताव पेश करने के लिए आप तारीख और समय तय कर दें। मैं यह फैसला आप पर छोड़ता हूं कि मुझे विश्वास मत हासिल करना चाहिए या अविश्वास प्रस्ताव का सामना करना चाहिए।