गौरतलब है दोनों देशों के पिछले कुछ वर्षों से अच्छे नहीं चल रहे हैं। बांग्लादेश में 1971 के मुक्ति संग्राम में युद्ध अपराध के कई दोषियों को फांसी देने और पाकिस्तान के उच्चायुक्त को वीजा से इन्कार किए जाने को लेकर दोनों देशों में पहले से ही कूटनीतिक तनातनी चल रही है। इस संबंध में बांग्लादेश के विदेश मंत्रालय के एक अधिकारी ने मंगलवार को कहा कि आप इसे पाकिस्तान के प्रति विरोध का प्रतीक समझ सकते हैं।